dil teri nazar ki shah pa kar milne ke bahaane dhundhe hai | दिल तेरी नज़र की शह पा कर मिलने के बहाने ढूँढे है - Taj Bhopali

dil teri nazar ki shah pa kar milne ke bahaane dhundhe hai
geeton ki fazaayein maange hai ghazalon ke zamaane dhundhe hai

aankhon mein liye shabnam ki chamak seene mein liye doori ki kasak
vo aaj hamaare paas aa kar kuchh zakham purane dhundhe hai

kya baat hai teri baaton ki lahja hai ki hai jaadu koi
har aan fazaa mein dil ud kar taaron ke khazaane dhundhe hai

pehle to chhute ye dair-o-haram phir ghar chhoota phir may-khaana
ab taaj tumhaari galiyon mein rone ke thikaane dhundhe hai

दिल तेरी नज़र की शह पा कर मिलने के बहाने ढूँढे है
गीतों की फ़ज़ाएँ माँगे है ग़ज़लों के ज़माने ढूँढे है

आँखों में लिए शबनम की चमक सीने में लिए दूरी की कसक
वो आज हमारे पास आ कर कुछ ज़ख़्म पुराने ढूँढे है

क्या बात है तेरी बातों की लहजा है कि है जादू कोई
हर आन फ़ज़ा में दिल उड़ कर तारों के ख़ज़ाने ढूँढे है

पहले तो छुटे ये दैर-ओ-हरम फिर घर छूटा फिर मय-ख़ाना
अब 'ताज' तुम्हारी गलियों में रोने के ठिकाने ढूँढे है

- Taj Bhopali
0 Likes

Beqarari Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Taj Bhopali

As you were reading Shayari by Taj Bhopali

Similar Writers

our suggestion based on Taj Bhopali

Similar Moods

As you were reading Beqarari Shayari Shayari