mitte hue nuqoosh-e-wafa ko ubhaariye | मिटते हुए नुक़ूश-ए-वफ़ा को उभारिए - Afzal Minhas

mitte hue nuqoosh-e-wafa ko ubhaariye
chehron pe jo saja hai mulamma utaariye

milna agar nahin hai to zakhamon se faaeda
chhup kar mujhe khayal ke patthar na maariye

koi to sarzanish ke liye aaye is taraf
baithe hue hain dil ke makaan mein juwaariye

haathon pe naachti hai abhi maut ki lakeer
jaise bhi ho ye zeest ki baazi na haariye

shikwa na kijie abhi apne naseeb ka
saanson ki tez aanch pe har shab guzaariye

mismar ho gai hain falak-bos chahten
shahr-e-jafa se ab na mujhe yun pukaariye

phoolon se taazgi ki hararat ko cheen kar
mausam ke zahar ke liye gulshan sanwaariye

ruswaaiyon ka hoga na ab saamna kabhi
jaldi se aarzoo ko lahd mein utaariye

afzal ye teergi ke musaafir kahaan chale
jee chahta hai in pe kai chaand maariye

मिटते हुए नुक़ूश-ए-वफ़ा को उभारिए
चेहरों पे जो सजा है मुलम्मा' उतारिए

मिलना अगर नहीं है तो ज़ख़्मों से फ़ाएदा
छुप कर मुझे ख़याल के पत्थर न मारिए

कोई तो सरज़निश के लिए आए इस तरफ़
बैठे हुए हैं दिल के मकाँ में जुवारिए

हाथों पे नाचती है अभी मौत की लकीर
जैसे भी हो ये ज़ीस्त की बाज़ी न हारिए

शिकवा न कीजिए अभी अपने नसीब का
साँसों की तेज़ आँच पे हर शब गुज़ारिए

मिस्मार हो गई हैं फ़लक-बोस चाहतें
शहर-ए-जफ़ा से अब न मुझे यूँ पुकारिए

फूलों से ताज़गी की हरारत को छीन कर
मौसम के ज़हर के लिए गुलशन सँवारिए

रुस्वाइयों का होगा न अब सामना कभी
जल्दी से आरज़ू को लहद में उतारिए

'अफ़ज़ल' ये तीरगी के मुसाफ़िर कहाँ चले
जी चाहता है इन पे कई चाँद मारिए

- Afzal Minhas
0 Likes

Aarzoo Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Afzal Minhas

As you were reading Shayari by Afzal Minhas

Similar Writers

our suggestion based on Afzal Minhas

Similar Moods

As you were reading Aarzoo Shayari Shayari