ik raat main so nahin saka tha | इक रात मैं सो नहीं सका था - Ahmad Ata

ik raat main so nahin saka tha
aur khwaab bhi dekhna pada tha

dil itna kyun dhadak raha hai
main kis ki nazar mein aa gaya tha

jaisa bhi galat sahi main hoon hoon
jaisa bhi galat sahi main tha tha

kamre mein aag lag gai thi
dil jab kisi dhyaan mein laga tha

waisa hi kharab shakhs hoon main
jaisa koi chhod kar gaya tha

dil ki masnad pe baith kar ishq
mujh aise ko sanwaarta tha

इक रात मैं सो नहीं सका था
और ख़्वाब भी देखना पड़ा था

दिल इतना क्यूँ धड़क रहा है
मैं किस की नज़र में आ गया था

जैसा भी ग़लत सही मैं हूँ, हूँ
जैसा भी ग़लत सही मैं था, था

कमरे में आग लग गई थी
दिल जब किसी ध्यान में लगा था

वैसा ही ख़राब शख़्स हूँ मैं
जैसा कोई छोड़ कर गया था

दिल की मसनद पे बैठ कर इश्क़
मुझ ऐसे को सँवारता था

- Ahmad Ata
0 Likes

Andhera Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Ata

As you were reading Shayari by Ahmad Ata

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Ata

Similar Moods

As you were reading Andhera Shayari Shayari