aur to khair kya rah gaya | और तो ख़ैर क्या रह गया - Ajmal Siraj

aur to khair kya rah gaya
haan magar ik khala rah gaya

gham sabhi dil se ruksat hue
dard be-intihaa rah gaya

zakham sab mundamil ho gaye
ik dareecha khula rah gaya

rang jaane kahaan ud gaye
sirf ik daagh sa rah gaya

aarzooon ka markaz tha dil
hasraton mein ghira rah gaya

rah gaya dil mein ik dard sa
dil mein ik dard sa rah gaya

zindagi se taalluq mera
toot kar bhi juda rah gaya

ham bhi aakhir pashemaan hue
aap ko bhi gila rah gaya

koi mehmaan aaya nahin
ghar hamaara saja rah gaya

us ne poocha tha kya haal hai
aur main sochta rah gaya

jaam kya kya na khaali hue
dard se dil bhara rah gaya

kis ko chhodaa khizaan ne magar
zakham dil ka haraa rah gaya

ye bhi kuchh kam nahin hai ki dil
gard-e-gham se atta rah gaya

kaam ajmal bahut the hamein
haath dil par dhara rah gaya

और तो ख़ैर क्या रह गया
हाँ मगर इक ख़ला रह गया

ग़म सभी दिल से रुख़्सत हुए
दर्द बे-इंतिहा रह गया

ज़ख़्म सब मुंदमिल हो गए
इक दरीचा खुला रह गया

रंग जाने कहाँ उड़ गए
सिर्फ़ इक दाग़ सा रह गया

आरज़ूओं का मरकज़ था दिल
हसरतों में घिरा रह गया

रह गया दिल में इक दर्द सा
दिल में इक दर्द सा रह गया

ज़िंदगी से तअल्लुक़ मिरा
टूट कर भी जुड़ा रह गया

हम भी आख़िर पशेमाँ हुए
आप को भी गिला रह गया

कोई मेहमान आया नहीं
घर हमारा सजा रह गया

उस ने पूछा था क्या हाल है
और मैं सोचता रह गया

जाम क्या क्या न ख़ाली हुए
दर्द से दिल भरा रह गया

किस को छोड़ा ख़िज़ाँ ने मगर
ज़ख़्म दिल का हरा रह गया

ये भी कुछ कम नहीं है कि दिल
गर्द-ए-ग़म से अटा रह गया

काम 'अजमल' बहुत थे हमें
हाथ दिल पर धरा रह गया

- Ajmal Siraj
2 Likes

Maikashi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ajmal Siraj

As you were reading Shayari by Ajmal Siraj

Similar Writers

our suggestion based on Ajmal Siraj

Similar Moods

As you were reading Maikashi Shayari Shayari