gham-e-jaanaan gham-e-dauraan bahut hain gham zamaane mein | ग़म-ए-जानाँ ग़म-ए-दौराँ बहुत हैं ग़म ज़माने में - Maaham Shah

gham-e-jaanaan gham-e-dauraan bahut hain gham zamaane mein
magar jo gham ko apnaaye bahut hain kam zamaane mein

khud hi apna pata rakho khud hi apni khabar rakho
sabhi madhham sabhi baatin sabhi mubham zamaane mein

main kis ko kya kahoon maasoom hain saare b-zaahir to
badal jaata hai lekin dafa'atan mausam zamaane mein

karo wa'da ki tum aaoge is mehfil ko jaan dene
sajaayenge kabhi jo dil ki mehfil ham zamaane mein

ग़म-ए-जानाँ ग़म-ए-दौराँ बहुत हैं ग़म ज़माने में
मगर जो ग़म को अपनाए बहुत हैं कम ज़माने में

ख़ुद ही अपना पता रक्खो ख़ुद ही अपनी ख़बर रक्खो
सभी मद्धम सभी बातिन सभी मुबहम ज़माने में

मैं किस को क्या कहूँ मासूम हैं सारे ब-ज़ाहिर तो
बदल जाता है लेकिन दफ़अ'तन मौसम ज़माने में

करो वा'दा कि तुम आओगे इस महफ़िल को जाँ देने
सजाएँगे कभी जो दिल की महफ़िल हम ज़माने में

- Maaham Shah
0 Likes

Mashwara Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Maaham Shah

As you were reading Shayari by Maaham Shah

Similar Writers

our suggestion based on Maaham Shah

Similar Moods

As you were reading Mashwara Shayari Shayari