kal ke liye kar aaj na khis'sat sharaab mein | कल के लिए कर आज न ख़िस्सत शराब में - Mirza Ghalib

kal ke liye kar aaj na khis'sat sharaab mein
ye soo-e-zan hai saaqi-e-kausar ke baab mein

hain aaj kyun zaleel ki kal tak na thi pasand
gustaakhi-e-farishta hamaari janab mein

jaan kyun nikalne lagti hai tan se dam-e-samaa
gar vo sada samaai hai chang o rabaab mein

rau mein hai rakhshe-umr kahaan dekhiye thame
ne haath baag par hai na pa hai rikaab mein

utna hi mujh ko apni haqeeqat se bod hai
jitna ki vehm-e-ghair se hoon pech-o-taab mein

asl-e-shuhuud-o-shaahid-o-mash'hood ek hai
hairaan hoon phir mushaahida hai kis hisaab mein

hai mushtamil numood-e-suvar par wujood-e-bahr
yaa kya dhara hai qatra o mauj-o-habaab mein

sharm ik ada-e-naaz hai apne hi se sahi
hain kitne be-hijaab ki hain yun hijaab mein

aaraish-e-jamaal se faarigh nahin hunooz
peshe-e-nazar hai aaina rizwan naqaab mein

hai gaib-e-ghaib jis ko samjhte hain ham shuhood
hain khwaab mein hunooz jo jaage hain khwaab mein

ghalib nadeem-e-dost se aati hai boo-e-dost
mash'ghool-e-haq hoon bandagi-e-boo-taraab mein

कल के लिए कर आज न ख़िस्सत शराब में
ये सू-ए-ज़न है साक़ी-ए-कौसर के बाब में

हैं आज क्यूँ ज़लील कि कल तक न थी पसंद
गुस्ताख़ी-ए-फ़रिश्ता हमारी जनाब में

जाँ क्यूँ निकलने लगती है तन से दम-ए-समा
गर वो सदा समाई है चंग ओ रबाब में

रौ में है रख़्श-ए-उम्र कहाँ देखिए थमे
ने हाथ बाग पर है न पा है रिकाब में

उतना ही मुझ को अपनी हक़ीक़त से बोद है
जितना कि वहम-ए-ग़ैर से हूँ पेच-ओ-ताब में

अस्ल-ए-शुहूद-ओ-शाहिद-ओ-मशहूद एक है
हैराँ हूँ फिर मुशाहिदा है किस हिसाब में

है मुश्तमिल नुमूद-ए-सुवर पर वजूद-ए-बहर
याँ क्या धरा है क़तरा ओ मौज-ओ-हबाब में

शर्म इक अदा-ए-नाज़ है अपने ही से सही
हैं कितने बे-हिजाब कि हैं यूँ हिजाब में

आराइश-ए-जमाल से फ़ारिग़ नहीं हुनूज़
पेश-ए-नज़र है आइना दाइम नक़ाब में

है गै़ब-ए-ग़ैब जिस को समझते हैं हम शुहूद
हैं ख़्वाब में हुनूज़ जो जागे हैं ख़्वाब में

'ग़ालिब' नदीम-ए-दोस्त से आती है बू-ए-दोस्त
मश्ग़ूल-ए-हक़ हूँ बंदगी-ए-बू-तराब में

- Mirza Ghalib
0 Likes

Sach Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Sach Shayari Shayari