itni khushiyaan bhar di tumne mere daaman me | इतनी खुशियां भर दी तुमने मेरे दामन मे - Safar

itni khushiyaan bhar di tumne mere daaman me
bilkul aise jaise zehar bhara ho naagan mein

usko dar hai uska shauhar faut na ho jaaye
uski saari choodi toot gayi hain anban mein

uske geelay gesu machhli ke par lagte the
ik aazaadaana madhoshi thi bangalan mein

uski jauza deewani hai uske bairi ki
yaani ik bewa rahti hai uski dulhan mein

kaise tanhaa dekh sakogi ulti duniya ko
tumko sab kuchh theek nazar aata hai darpan mein

mera dil gar mujhmein dhadke paagal ho jaaun
ek ajab sa wahshi pan hai meri dhadkan mein

इतनी खुशियां भर दी तुमने मेरे दामन मे
बिल्कुल ऐसे जैसे ज़हर भरा हो नागन में

उसको डर है उसका शौहर फौत न हो जाये
उसकी सारी चूड़ी टूट गयी हैं अनबन में

उसके गीले गेसू, मछली के पर लगते थे
इक आज़ादाना मदहोशी थी, बंगालन में

उसकी जौज़ा दीवानी है उसके बैरी की
यानी इक बेवा रहती है उसकी दुल्हन में

कैसे तन्हा देख सकोगी उल्टी दुनिया को
तुमको सब कुछ ठीक नज़र आता है दर्पन में

मेरा दिल गर मुझमें धड़के पागल हो जाऊँ
एक अजब सा वहशी पन है मेरी धड़कन में

- Safar
2 Likes

Duniya Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Safar

As you were reading Shayari by Safar

Similar Writers

our suggestion based on Safar

Similar Moods

As you were reading Duniya Shayari Shayari