jeete-ji dukh sukh ke lamhe aate jaate rahte hain | जीते-जी दुख सुख के लम्हे आते जाते रहते हैं - Akhtar Imam Rizvi

jeete-ji dukh sukh ke lamhe aate jaate rahte hain
ham to zara si baat pe paharon ashk behaate rahte hain

vo apne maathe par jhoote rog saja kar firte hain
ham apni aankhon ke jalte zakham chhupaate rahte hain

soch se paikar kaise tarshe soch ka ant niraala hai
khaak pe baithe aadhe-tirche naqsh banaate rahte hain

saahil saahil daar saje hain mauj mauj zanjeeren hain
doobne waale dariya dariya jashn manaate rahte hain

akhtar ab insaaf ki aankhen zar ki khanak se khulti hain
ham paagal hain lohe ki zanjeer hilaate rahte hain

जीते-जी दुख सुख के लम्हे आते जाते रहते हैं
हम तो ज़रा सी बात पे पहरों अश्क बहाते रहते हैं

वो अपने माथे पर झूटे रोग सजा कर फिरते हैं
हम अपनी आँखों के जलते ज़ख़्म छुपाते रहते हैं

सोच से पैकर कैसे तर्शे सोच का अंत निराला है
ख़ाक पे बैठे आड़े-तिरछे नक़्श बनाते रहते हैं

साहिल साहिल दार सजे हैं मौज मौज ज़ंजीरें हैं
डूबने वाले दरिया दरिया जश्न मनाते रहते हैं

'अख़्तर' अब इंसाफ़ की आँखें ज़र की खनक से खुलती हैं
हम पागल हैं लोहे की ज़ंजीर हिलाते रहते हैं

- Akhtar Imam Rizvi
0 Likes

Kashmir Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akhtar Imam Rizvi

As you were reading Shayari by Akhtar Imam Rizvi

Similar Writers

our suggestion based on Akhtar Imam Rizvi

Similar Moods

As you were reading Kashmir Shayari Shayari