dil ka koocha phir kabhi mahka nahin | दिल का कूचा फिर कभी महका नहीं - Priya omar

dil ka koocha phir kabhi mahka nahin
baad tere waqt bhi guzra nahin

har kisi se raabta rakha nahin
aur koi mujh talak rasta nahin

saans nadiyaan le rahi hain aakhiri
dil samandar ka magar bharta nahin

zor se pakdo na koi rishta tum
aab chhatke pyaalon mein thehra nahin

jism-o-jaan mein phir na aayi larzishen
lams tera le koi guzra nahin

betalluq guftagoo karti hoon main
jab kisi se dil mera milta nahin

kar rahi ho aaj bhi shikwa priya
zindagi ne shaayad tumhein tarsha nahin

दिल का कूचा फिर कभी महका नहीं
बाद तेरे वक़्त भी गुज़रा नहीं

हर किसी से राब्ता रक्खा नहीं
और कोई मुझ तलक रस्ता नहीं

साँस नदियाँ ले रही हैं आख़िरी
दिल समन्दर का मगर भरता नहीं

ज़ोर से पकड़ो न कोई रिश्ता तुम
आब चटके प्यालों में ठहरा नहीं

जिस्म-ओ-जाँ में फिर न आई लर्ज़िशें
लम्स तेरा ले कोई गुज़रा नहीं

बेतअल्लुक़ गुफ़्तगू करती हूँ मैं
जब किसी से दिल मेरा मिलता नहीं

कर रही हो आज भी शिकवा 'प्रिया'
ज़ीस्त ने शायद तुम्हें तरशा नहीं

- Priya omar
3 Likes

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Priya omar

As you were reading Shayari by Priya omar

Similar Writers

our suggestion based on Priya omar

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari