jahaan tera naqsh-e-qadam dekhte hain | जहाँ तेरा नक़्श-ए-क़दम देखते हैं - Mirza Ghalib

jahaan tera naqsh-e-qadam dekhte hain
khayaabaan khayaabaan irm dekhte hain

dil-aashuftagan khaal-e-kunj-e-dehn ke
suwaida mein sair-e-adam dekhte hain

tire sarv-qaamat se ik qadd-e-aadam
qayamat ke fitne ko kam dekhte hain

tamasha ki ai mahv-e-aaina-daari
tujhe kis tamannaa se ham dekhte hain

suraagh-e-taf-e-naala le daag-e-dil se
ki shab-rau ka naqsh-e-qadam dekhte hain

bana kar faqeeron ka ham bhes ghalib
tamaasha-e-ahl-e-karam dekhte hain

kisoo ko z-khud rasta kam dekhte hain
ki aahu ko paaband-e-ram dekhte hain

khat-e-lakht-e-dil yak-qalam dekhte hain
mizaa ko jawaahar raqam dekhte hain

जहाँ तेरा नक़्श-ए-क़दम देखते हैं
ख़याबाँ ख़याबाँ इरम देखते हैं

दिल-आशुफ़्तगाँ ख़ाल-ए-कुंज-ए-दहन के
सुवैदा में सैर-ए-अदम देखते हैं

तिरे सर्व-क़ामत से इक क़द्द-ए-आदम
क़यामत के फ़ित्ने को कम देखते हैं

तमाशा कि ऐ महव-ए-आईना-दारी
तुझे किस तमन्ना से हम देखते हैं

सुराग़-ए-तफ़-ए-नाला ले दाग़-ए-दिल से
कि शब-रौ का नक़्श-ए-क़दम देखते हैं

बना कर फ़क़ीरों का हम भेस 'ग़ालिब'
तमाशा-ए-अहल-ए-करम देखते हैं

किसू को ज़-ख़ुद रस्ता कम देखते हैं
कि आहू को पाबंद-ए-रम देखते हैं

ख़त-ए-लख़्त-ए-दिल यक-क़लम देखते हैं
मिज़ा को जवाहर रक़म देखते हैं

- Mirza Ghalib
1 Like

Duniya Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Duniya Shayari Shayari