junoon ki dast-geeri kis se ho gar ho na uryaani | जुनूँ की दस्त-गीरी किस से हो गर हो न उर्यानी - Mirza Ghalib

junoon ki dast-geeri kis se ho gar ho na uryaani
garebaan-chaak ka haq ho gaya hai meri gardan par

baa-rang-e-kaaghaz-e-aatish-zada nairang-e-betaabi
hazaar aaina dil baandhe hai baal-e-yak-tapeedan par

falak se ham ko aish-e-rafta ka kya kya taqaza hai
mata-e-burda ko samjhe hue hain qarz rehzan par

ham aur vo be-sabab ranj-aashnaa dushman ki rakhta hai
shua-e-mehr se tohmat nigaah ki chashm-e-rauzan par

fana ko saunp gar mushtaaq hai apni haqeeqat ka
farogh-e-taala-e-khaashaak hai mauqoof gul-khan par

asad bismil hai kis andaaz ka qaateel se kehta hai
ki mashq-e-naaz kar khoon-e-do-aalam meri gardan par

fusoon-e-yak-dili hai lazzat-e-bedaad dushman par
ki vajd-e-bark jun parwaana baal-afshaan hai khirman par

takalluf khaar-khaar-e-iltimaas-e-be-qaaraari hai
ki rishta baandhta hai pairhan angusht-e-soznaan par

ye kya vehshat hai ai deewane pesh-az-marg vaavila
rakhi be-ja binaa-e-khaana-e-zanjeer-e-shevan par

जुनूँ की दस्त-गीरी किस से हो गर हो न उर्यानी
गरेबाँ-चाक का हक़ हो गया है मेरी गर्दन पर

बा-रंग-ए-कागज़-ए-आतिश-ज़दा नैरंग-ए-बेताबी
हज़ार आईना दिल बाँधे है बाल-ए-यक-तपीदन पर

फ़लक से हम को ऐश-ए-रफ़्ता का क्या क्या तक़ाज़ा है
मता-ए-बुर्दा को समझे हुए हैं क़र्ज़ रहज़न पर

हम और वो बे-सबब रंज-आशना दुश्मन कि रखता है
शुआ-ए-मेहर से तोहमत निगह की चश्म-ए-रौज़न पर

फ़ना को सौंप गर मुश्ताक़ है अपनी हक़ीक़त का
फ़रोग़-ए-ताला-ए-ख़ाशाक है मौक़ूफ़ गुलख़न पर

'असद' बिस्मिल है किस अंदाज़ का क़ातिल से कहता है
कि मश्क़-ए-नाज़ कर ख़ून-ए-दो-आलम मेरी गर्दन पर

फ़ुसून-ए-यक-दिली है लज़्ज़त-ए-बेदाद दुश्मन पर
कि वज्द-ए-बर्क़ जूँ परवाना बाल-अफ़्शाँ है ख़िर्मन पर

तकल्लुफ़ ख़ार-ख़ार-ए-इल्तिमास-ए-बे-क़ारारी है
कि रिश्ता बाँधता है पैरहन अंगुश्त-ए-सोज़न पर

ये क्या वहशत है ऐ दीवाने पेश-अज़-मर्ग वावैला
रक्खी बे-जा बिना-ए-ख़ाना-ए-ज़ंजीर-ए-शेवन पर

- Mirza Ghalib
0 Likes

Diwangi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Mirza Ghalib

As you were reading Shayari by Mirza Ghalib

Similar Writers

our suggestion based on Mirza Ghalib

Similar Moods

As you were reading Diwangi Shayari Shayari