0

जो मैं ने कह दिया उस से मुकरने वाला नहीं  - Ainuddin Azim

जो मैं ने कह दिया उस से मुकरने वाला नहीं
कि आसमान ज़मीं पर उतरने वाला नहीं

मैं रेज़ा रेज़ा हूँ लेकिन नमी अभी तक है
हवाएँ लाख चलें मैं बिखरने वाला नहीं

मैं जानता हूँ वो अच्छे दिनों का साथी है
बुरे दिनों में इधर से गुज़रने वाला नहीं

हमारे शहर में चेहरा नहीं रहा शायद
पड़े हैं आइना-ख़ाने सँवरने वाला नहीं

तिरे करम का सज़ा-वार मैं हूँ या दिल है
दिया है तू ने वो कासा जो भरने वाला नहीं

कहाँ का ख़्वाब मुसाफ़िर की आँख में 'आज़िम'
कि बहते पानी में मंज़र ठहरने वाला नहीं

- Ainuddin Azim

Miscellaneous Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ainuddin Azim

As you were reading Shayari by Ainuddin Azim

Similar Writers

our suggestion based on Ainuddin Azim

Similar Moods

As you were reading Miscellaneous Shayari