0

फ़लक से चाँद चमन से गुलाब ले आए  - Akhlaque Bandvi

फ़लक से चाँद चमन से गुलाब ले आए
कहाँ से कोई तुम्हारा जवाब ले आए

हज़ार रंग हैं हुस्न-ओ-जमाल के लेकिन
वो रंग और है जिस को शबाब ले आए

अजीब तुर्फ़ा-तमाशा है ज़िंदगी मेरी
ख़ुशी भी आए तो ग़म बे-हिसाब ले आए

तिरे ख़मीर में शामिल है गुमरही वर्ना
फ़लक से कितने पयम्बर किताब ले आए

इधर वो तिश्ना-लबी है कि जाँ-ब-लब हैं हम
उधर वो दस्त-ए-करम पर सराब ले आए

उसी की आज भी रहती हैं मुंतज़िर आँखें
जो आ भी जाए तो सद इज़्तिराब ले आए

ये शेर-गोई है 'अख़लाक़' कोई खेल नहीं
करे वो मश्क़ जो छलनी में आब ले आए

- Akhlaque Bandvi

Miscellaneous Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akhlaque Bandvi

As you were reading Shayari by Akhlaque Bandvi

Similar Writers

our suggestion based on Akhlaque Bandvi

Similar Moods

As you were reading Miscellaneous Shayari