jahaan sheesha hai patthar jaagte hain | जहाँ शीशा है पत्थर जागते हैं - Ahsan Yusuf Zai

jahaan sheesha hai patthar jaagte hain
zarar-eijaad ghar ghar jaagte hain

sadaf aasoodagi ki neend soye
magar pyaase samundar jaagte hain

udri afwaah andhi bastiyon mein
sitaaron se muqaddar jaagte hain

luteron ke liye soti hain aankhen
magar ham apne andar jaagte hain

andheron mein khandar sota pada hai
abaabeelon ke lashkar jaagte hain

जहाँ शीशा है पत्थर जागते हैं
ज़रर-ईजाद घर घर जागते हैं

सदफ़ आसूदगी की नींद सोए
मगर प्यासे समुंदर जागते हैं

उड़ी अफ़्वाह अंधी बस्तियों में
सितारों से मुक़द्दर जागते हैं

लुटेरों के लिए सोती हैं आँखें
मगर हम अपने अंदर जागते हैं

अंधेरों में खंडर सोता पड़ा है
अबाबीलों के लश्कर जागते हैं

- Ahsan Yusuf Zai
0 Likes

Akhbaar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahsan Yusuf Zai

As you were reading Shayari by Ahsan Yusuf Zai

Similar Writers

our suggestion based on Ahsan Yusuf Zai

Similar Moods

As you were reading Akhbaar Shayari Shayari