sifaarishon ke bajaae hunar se jaana gaya | सिफ़ारिशों के बजाए हुनर से जाना गया - Ahmad Azeem

sifaarishon ke bajaae hunar se jaana gaya
parinda ped nahin baal-o-par se jaana gaya

kisi ka hona kisi ki nazar se jaana gaya
mera makaan tiri raahguzaar se jaana gaya

mujhe milaaya tha ik roz tum ne mitti mein
nateeja ye hua main phir shajar se jaana gaya

jahaan pe bolte rahna daleel ilm ki thi
wahan main guftugoo-e-mukhtasar se jaana gaya

main is kitaab ke ik baab ka hoon ik kirdaar
vo jis kitaab ko keval kavar se jaana gaya

vagarna ishq ki galiyaan taveel hoti hain
mera naseeb main pehle hi ghar se jaana gaya

adab mein meer ka qashka hi thodi hai mashhoor
hamaara sar bhi tiri khaak-e-dar se jaana gaya

main tanhaa karta raha muddaton ghazal ka safar
aur aakhirsh ye safar hum-safar se jaana gaya

सिफ़ारिशों के बजाए हुनर से जाना गया
परिंदा पेड़ नहीं बाल-ओ-पर से जाना गया

किसी का होना किसी की नज़र से जाना गया
मिरा मकान तिरी रहगुज़र से जाना गया

मुझे मिलाया था इक रोज़ तुम ने मिट्टी में
नतीजा ये हुआ मैं फिर शजर से जाना गया

जहाँ पे बोलते रहना दलील इल्म की थी
वहाँ मैं गुफ़्तुगू-ए-मुख़्तसर से जाना गया

मैं इस किताब के इक बाब का हूँ इक किरदार
वो जिस किताब को केवल कवर से जाना गया

वगर्ना इश्क़ की गलियाँ तवील होती हैं
मिरा नसीब मैं पहले ही घर से जाना गया

अदब में 'मीर' का क़श्क़ा ही थोड़ी है मशहूर
हमारा सर भी तिरी ख़ाक-ए-दर से जाना गया

मैं तन्हा करता रहा मुद्दतों ग़ज़ल का सफ़र
और आख़िरश ये सफ़र हम-सफ़र से जाना गया

- Ahmad Azeem
0 Likes

Ghamand Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Azeem

As you were reading Shayari by Ahmad Azeem

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Azeem

Similar Moods

As you were reading Ghamand Shayari Shayari