komal selacoti

komal selacoti

@Surajselacoti

komal selacoti shayari collection includes sher, ghazal and nazm available in Hindi and English. Dive in komal selacoti's shayari and don't forget to save your favorite ones.

Followers

1

Content

55

Likes

31

Shayari
Audios
  • Ghazal
  • Nazm
ये दिल्लगी अब हो न हो क्या फ़र्क पड़ना है हमें
ये काम भी अब हो न हो क्या फ़र्क पड़ना है हमें

हमने बड़ी मुश्किल से सीखा नाम जिसका ज़िंदगी
वो ज़िंदगी अब हो न हो क्या फ़र्क पड़ना है हमें

किसने हँसाया था कभी किसने रुलाया है अभी
ये ध्यान भी अब हो न हो क्या फ़र्क पड़ना है हमें

हम हार के भी चल दिए हैं राह पे ये ही बहुत
रस्ता सही अब हो न हो क्या फ़र्क पड़ना है हमें

हम भी हँसे थे जानकर तुम भी हँसो ये जानकर
हमको ख़ुशी अब हो न हो क्या फ़र्क पड़ना है हमें

इक उम्र तक घर में रहे इक उम्र में बाहर गए
घर में घड़ी अब हो न हो क्या फ़र्क पड़ना है हमें

अपने सिरहाने इक ज़माने से पड़ा है टूटा दिल
सच-मुच परी अब हो न हो क्या फ़र्क पड़ना है हमें
Read Full
komal selacoti

LOAD MORE